EK Dam true....
मंजीया ते बैंदे सी,
कोल कोल रेंदे सी

सोफे बैड आ गये ने,
दूरियां वधा गये ने

वेड़े विच रुख सी,
सांझे दुख सुख सी ।

छत्ता ते न सोन्दे हुन ,
गलां ना कर पान्दे हुन ।।

बुआ खुल्ला रेन्दा सी,
राही वी आ बैन्दा सी ।

कौवे वी कुरलान्दे सी,
परौणे वी घर आन्दे सी ।

 साईकिल ही कोल सी,
तां वी मेल जोल सी।

रिश्ते निभान्दे  सी,
रूसदे मनान्दे सी।

पैसा भांवे घट सी,
पर मत्थे ते न वट सी ।

कन्दा कोले कच्चे सी
पर रिश्ते सारे सच्चे सी।

शायद कुज पाया है,
ते बोहता कुज गवाया है।
Categories:
Share
Blog Widget by LinkWithin